Saturday, February 24, 2024

सिक्किम के पारंपरिक व्यंजन – स्वाद का सफर

कोस-कोस पर बदले पानी, ढाई कोस पर वाणी. ये कहावत हिंदुस्तान पर जितनी पूरी बैठती है उतनी ही ये अधूरी भी है. इस कहावत में पानी और वाणी की तो बात है लेकिन स्वाद का ज़िक्र नहीं. भारत में जितनी भाषाएं हैं उससे कहीं ज़्यादा व्यंजन हैं. हर प्रांत का, हर ज़िले का स्वाद एकदम ज़ुदा है. पूरन पूरी हो या दाल बाटी, तंदूरी रोटी हो या शाही पुलाव, पंजाबी खाना हो या मारवाड़ी खाना, हर भारतीय भोजन की अपनी एक विशिष्टता है और इसी कारण से आज संसार के सभी बड़े देशों में भारतीय भोजनालय मिलते हैं जो कि बहुत लोकप्रिय भी हैं. लेकिन आज हम बात करेंगे एक ऐसे राज्य की जिसका खाना ज़्यादातर लोगों को विदेशी लगता है. जी हां हम बात करेंगे भारत के पूर्वोत्तर भाग में स्थित एक पहाड़ी राज्य की. अंगूठे के आकार का यह राज्य उत्तर और उत्तर-पूर्व में चीन के तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र से, दक्षिण-पूर्व भूटान से, दक्षिण में भारतीय राज्य पश्चिम बंगाल और पश्चिम में नेपाल से लगा हुआ है. सही पहचाना आपने हम बात कर रहे हैं “सिक्किम” की. जी हां, सिक्किम का मतलब तिब्बती भाषा में है “चावल की घाटी”. सिक्किम की राजधानी तथा राज्य का सबसे बड़ा शहर गंगटोक है. तो दोस्तों आज हम इसी पहाड़ी ख़ूबसूरत राज्य सिक्किम के प्रसिद्ध व्यंजन के बारे में बात करेंगे. सिक्किम अपनी प्राकृतिक सुंदरता के साथ-साथ स्वादिष्ट भोजन के लिए भी जाना जाता है. सिक्किम की सीमा से जुड़े भूटान, तिब्बत और नेपाल का सिक्किम के भोजन पर महत्वपूर्ण प्रभाव है जिसके चलते मुख्य रूप से सिक्किम का भोजन स्वाद में समृद्ध है. सिक्किम के भोजन में सूप, पकौड़ी, स्ट्यूज़, मीट और कई तरह की सब्जियाँ शामिल हैं.
स्थानीय लोग सिक्किम में स्थानीय किसानों द्वारा जैविक (organic) रूप से उगाये गए फल, सब्जियाँ और अंडे-मांस खाना पसंद करते हैं जिससे सिक्किम एक जैविक राज्य के रूप में भी जाना जाता है.
तो चलिए आज आपको बताते हैं सिक्किम के 22 सबसे प्रमुख व्यंजनों के बारे में –

1. सबसे पहले बात थेंकुक की, थेंकुक, एक प्रकार का नूडल सूप है जो सिक्किम के प्रसिद्ध भोजन में से एक है. इसे बनाने के लिए सब्जियां, चिकन या मटन और गेहूं के आटे का इस्तेमाल किया जाता है. अगर आप शाकाहारी हैं तो वेजी थेंकुक ट्राई कर सकते हैं. यह वह व्यंजन है जिसे सिक्किम के लोग रात के खाने में खाते हैं.
2. थेंकुक के बाद बात मोमोज़ की, अरे कहीं हमारी तरह आपको भी मोमोज़ नेपाली या चीनी व्यजंन तो नहीं लगता. अगर लगता है तो जान लें मोमोज़ या दम्प्लिंग्स सिक्किम के लोगों के बीच सबसे लोकप्रिय व्यंजन है. सिक्किम मोमोज़, जिसे तिब्बती व्यंजन माना जाता है और नेपाली व्यंजनों से प्रभावित है, ये सिक्किम की लाइफ लाइन है.
3. मोमोज़ के बाद बात करते हैं खाप्से की, खाप्से एक तली हुई पेस्ट्री है जिसका स्वाद थोड़ा मीठा या नमकीन होता है. यह आमतौर पर विशेष अवसरों पर खाया और तैयार किया जाता है, साथ ही तिब्बती विवाहों में भी परोसा जाता है.
4. खाप्से की तरह ही विशेष अवसरों का भोजन है वाचिपा. वाचिपा किरात राय जातीय समूह का एक पारंपरिक सिक्किम व्यंजन है. पके हुए चावल और कीमा से बनाया जाता है वाचिपा.

  1. विशेष अवसरों को छोड़ फिर लौटते है रोज़मर्रा के खाने की ओर तो थुकपा का नाम तो आपने सुना ही होगा. ये स्वादिष्ट नूडल सूप आपको राज्य के न केवल स्ट्रीट स्टॉल बल्कि हर भोजनालय में मिल जाएगा. नूडल सूप के मसालेदार स्वाद के अलावा इसमें कटा हुआ प्याज और हरी मिर्च भी शामिल हैं. इस रेसिपी में आप शाकाहारी और मांसाहारी विकल्पों में से किसी एक को चुन सकते हैं.
    6. क्या आपने कभी बांस खाया है. जी हां, बांस को खाया भी जा सकता है. सिक्किम का प्रसिद्ध व्यंजन है बांस करील करी. बांस करील करी एक पारंपरिक सिक्किम व्यंजन है, जिसे बांस के कोपलों से बनाया जाता है. इस व्यंजन के स्वाद को बेहतर बनाने के लिए बांस के अंकुर की कड़वाहट को छिपाने के लिए करी को हल्दी के साथ मसालेदार बनाया जाता है.
    7. इसी तरह गुन्द्रुक भी सिक्किम का प्रसिद्ध नाश्ता है. सरसों और पत्ता गोभी या मूली के पत्ते को सुखा कर बनाया जाना वाला ये व्यंजन एक साइड डिश है. यह थोड़ा खट्टा होता है लेकिन फिर भी अद्भुत है. ये शरीर के पाचन तंत्र को सही रखने में मदद करता है.
    8. गुंड्रुक की तरह सिंकी एक और लोकप्रिय पारंपरिक सिक्किम भोजन है. ये अलग है क्योंकि ये लगभग एक महीने तक मूली की जड़ को एक बांस के कंटेनर में रख कर, पुआल से ढंक कर तैयार किया जाता है. महीने भर बाद इसे अचार की तरह एक साल तक धीरे-धीरे पकने के लिए छोड़ दिया जाता है और फिर सूप में इसका इस्तेमाल किया जाता है.
    9.दाल-भात ,सिक्किम में हर कोई लगभग हर दिन दाल-भात खाता है और इसे सिक्किम का मुख्य भोजन माना जाता है. यह भोजन उबलते चावल, दाल का सूप और सब्जियों का मिश्रण है.
    10. फंग्शापा , इसी तरह जब सिक्किम के व्यंजनों की बात आती है तो फंग्शापा पसंदीदा भोजन है. इस भोजन में मूली और लाल मिर्च के साथ सूअर के मांस की चर्बी मुख्य तौर पर होती है. कई लोगों का मानना है कि इसके अनोखे स्वाद और स्वास्थ्य फायदों के कारण इसे सिक्किम में सबसे लोकप्रिय भोजन माना जाता है.
    11.शा फले , शा फले सिक्किम का एक और लोकप्रिय व्यंजन है. ‘शा फले’ को डीप-फ्राइड किया जाता है. ये ब्रेड के बेस पर और ढेर सारे कीमा से बनाया जाता है. मूल रूप से एक तिब्बती व्यंजन है लेकिन यह सिक्किम में भी बहुत लोकप्रिय है.
    12. छुरपी के साथ निंग्रो , छुरपी यानी पनीर, अलग-अलग व्यंजन बनाने के लिए आप इसे कई सामग्रियों के साथ मिला सकते हैं लेकिन सबसे लोकप्रिय है छुरपी-निंग्रो करी. सिक्किम में जंगली फर्न को देशी भाषा में निंग्रो कहा जाता है.
    13. इसी तरह सिक्किम में सेल रोटी एक प्रसिद्ध और लोकप्रिय भोजन है. इसे आटे के साथ इलायची और चीनी के साथ मिलाकर रिंग शेप में गर्म तेल में तला जाता है.
    16. चांग , अगर आप स्थानीय अल्कोहल की तलाश कर रहे हैं तो चांग को आप पसंद कर सकते हैं, जो खमीर और बाजरा के साथ ब्रू किया गया ड्रिंक है. इसे थोम्बा के नाम से भी जाना जाता है और यह पूर्वी नेपाल का एक पारंपरिक पेय है. चांग या छांग एक स्थानीय रूप से उत्पादित नशीला पेय है, जिसे बांस की पाई में परोसा जाता है.
    हर राज्य में कुछ अनोखे और स्वादिष्ट व्यंजन होते हैं जो समुदाय के साथ-साथ राज्य की संस्कृति को भी दर्शाते हैं. सिक्किम संस्कृति में समृद्ध है और यहां के पारंपरिक व्यंजनों ने इसे और भी बढ़ाया है. यहां के पारंपरिक व्यंजन भी पर्यटकों को आकर्षित करते हैं. तो जब भी सिक्किम जाएं वहां के स्वादिष्ट और अनोखे खाने का आनंद ज़रूर लें.

Latest news

Related news