व्यवसायी दंपति गोली कांड में पति निकला मास्टरमाइंड, दो शूटर गिरफ्तार

0
127

पति पत्नी का रिश्ता भरोसे का रिश्ता होता है. जहाँ दोनों एक दूसरे की खामिया और खासियत को कबूल कर एक दूसरे से 7 जन्म के पावन बंधन में बंध जाते हैं. लेकिन कई बार जब इस पावन बंधन की डोर में किसी बात को लेकर गाँठ पड़ जाए. तो ना केवल रिश्ते टूटते हैं बल्कि कई बार नौबत हत्या तक पहुँच जाती है. कुछ ऐसा ही मामला सामना आया बिहार के गजराजगंज ज़िले से. जहाँ एक पति ने अपनी ही पत्नी की हत्या के लिए लाखों की सुपारी दे डाली.

दरअसल आरा-बक्सर नेशनल हाई-वे पर दो रात पहले हार्डवेयर व्यवसायी दंपती को गोली मारने का मामले सामने आया. जिसमें पुलिस ने बेहद चौंकाने वाला खुलासा किया है. जाँच में पता चला कि व्यवसायी उत्तम कुमार ने ही अपने दो दोस्तों के साथ मिलकर अपनी पत्नी की हत्या की साजिश रची थी. जिसके एवज में व्यापारी पति ने दो लाख रुपये दिया था. ताकि वो अपनी पत्नी संध्या देवी को रास्ते से हटा सके. लेकिन वो कहावत आपने सुनी है जब बोया हो बाबुल तो आम का फल कहाँ से मिलेगा. तो ठीक वैसा ही हुआ. पत्नी को मरवाने के चक्कर में साजिशकर्ता पति खुद भी लहू लुहान हो गया.

तो देखा आपने पत्नी की सुपारी देने वाला पति कैसे खुद के ही जाल में फंस गया. मामले को अंजाम देने वाले दोनों दोस्त कृष्णाकांत गुप्ता और नवनीत कुमार तिवारी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने दोनों शुटरों के पास से गोलीबारी में इस्तेमाल की गई देसी पिस्टल, बाइक, दो मोबाइल और दो गोलियां भी बरामद की है.

ये खुलासा तब हुआ जब घटना के बाद संध्या ने अपने पति पर ही हत्या की साजिश का अरोप लगाया. जिसके बाद पुलिस टीम ने सबसे पहले उसी आधार पर छानबीन शुरू की. जिसमें एक के एक बाद एक सबूत मिलते गए, फिर पता चला कि आरोपी उत्तम अपनी पत्नी की सुंदरता को लेकर खुश नहीं था. दोनों के बीच कई दिनों से नोंकझोंक हो रही थी. इसी दौरान आरोपी पति ने अपनी ही पत्नी की हत्या की साजिश दो दोस्तों के साथ मिलकर रच डाली. गिरफ्तारी के बाद शुटरों ने बताया कि उनको सिर्फ संध्या को गोली मारनी थी लेकिन, अंधेरा होने के कारण उत्तम को भी गोली लग गई. घटना के दौरान पत्नी संध्या को 5 गोली दागी गयी थी. हालांकि पीड़ित पत्नी और आरोपी पति फिलहाल अस्पताल में भर्ती है. मामले के खुलासे के बाद जख्मी पति को हिरासत में ले लिया गया है. इलाज होने के बाद आरोपी पति को भी न्यायिक प्रक्रिया के तहत जेल भेजा जाएगा.