कैसी है ब्रह्मास्त्र फिल्म? रणबीर की एक्टिंग से निराश होंगे आप …, जानिए FILM Review

0
237

बॉलीवुड इन दिनों बॉयकॉट का सामना कर रहा. बड़े से बड़े धुरंदर अभिनेताओं की फिल्म औंधे मुँह गिर रही है. फिर भले ही बात अक्षय कुमार की हो , आमिर खान हो सलमान खान हो या कोई और अभिनेता . हालत ये है कि अब बड़े परदे पर फिल्म उतारने से पहले लोग दर रहे हैं कि कहीं उनकी फिल्म भी किसी विवाद में फंस कर BOYCOTT का शिकार ना हो जाये . इस बीच सबकी ज़ुबान पर एक ही नाम है ब्रह्मास्त्र. बहुत से लोग फिल्म को देखने के लिए इच्छुक है तो बहुत से फिल्म को बॉयकॉट करने की मांग कर रहे हैं . सवाल ये किकिसी है फिल्म ब्रह्मस्त्र ?

इस फिल्म को डायरेक्ट किया है अयान मुखर्जी ने और फिल्म में मुख्य अभिनेता के तौर पर रणबीर कपूर और आलिया भट्ट है . फिल्म में अमिताभ बच्चन शाहरुख़ खान समेत कई दिग्गज अभिनेता भी है. जिन्होंने फिल्म को बनाने में अपना खून-पसीना एक कर दिया. फिल्म को बनाने में 10 साल लग गए . फिल्म की कहानी सदियों पुरानी शक्तियों और ग्यानी ऋषियों पर आधारित है. इस फिल्म में हिन्दू मिथॉलजी का एक नया ही स्वरुप दिखाया गया है .

फिल्म की कहानी की बात करें तो फिल्म में मुख्य भूमिका निभा रहे रणबीर कपूर एक डीजे का किरदार निभा रहे हैं . जिसका नाम है शिवा दुर्गा पूजा DJ बजाते हुए उसकी मुलाकात फिल्म की हीरोइन ईशा यानी आलिया भट्ट से होती है . फिर प्रेम कहानी शुरू होती है जो बॉलीवुड फिल्मों की खासियत मानी जाती रही है और इसके बिना कोई कहानी पूरी नहीं है . इसी बीच शिवा को ब्रह्मांश की दुनिया में होने वाली कुछ घटनाओं के सपने आते हैं लेकिन ब्रह्मांश के बारे में उसे कोई जानकारी नहीं है. इस पहेली को सुलझाते हुए शिवा और ईशा नंदी अस्त्र के मालिक अनीस जो कि नागार्जुन और ब्रह्मांश के गुरू, अमिताभ बच्चन के पास पहुंचते हैं. इस बीच शिवा को एहसास होता है कि वह खुद एक अस्त्र है जिसका नाम है अग्नि अस्त्र. इसी के साथ फिल्म में बुरीशक्तियों की भी एंट्री होती है. जिसमें रानी जुनून यानी मौनी रॉय जिसका मकसद इस ब्रह्मास्त्र को हथियाना है . बाकि कहानी आपको फिल्म देखने पर ज्यादा समझ आएगी .

ऐसे में बात अगर फिल्म के डायरेक्शन की करें तो रणबीर और अयान ने पहले भी सुपरहिट फ़िल्में दी है . जो काफी अलग साबित हुई है . जैसे कि वेकअप सिड, ये जवानी है दीवानी. इन्ही फिल्मों ने अयन मुख़र्जी को बॉलीवुड में अलग पहचान दी है .अयान ने इस कहानी के जरिए भारतीय माइथॉलजी और आज के टेक्नोलॉजी दौर को एक साथ लेकर आरहे हैं. जिसे बेहद ही खूबसूरत तरीके से पेश करने में वो कामयाब भी हुए हैं . फिल्म की जान है उसका 3 D VFX और जबरदस्त एक्शन सीक्वेंस, जिसकी वजह से स्क्रीन पर आप आंखें टिकाए बैठते हैं. वहीं कहानी का पक्ष थोड़ा सा कमजोर नजर आता है. अगर इस फिल्म की कहानी और क्लाइमैक्स पर ध्यान दिया जाता, तो इस फिल्म का हमारी इंडियन सिनेमा के कल्ट फिल्मों में शुमार होना तय था. फिल्म विजुअली जितनी स्ट्रॉन्ग है, डायलॉग्स के मामले में उतनी ही ढीली नजर आती है. ऐसी बड़ी फिल्म में डायलॉग्स पर खासकर फोकस किया जाना चाहिए था, जहां अयान की चूक साफ नजर आती है. अगर इतने दमदार फिल्म में डायलॉग्स एक दम साधारण तो फिल्म कुछ ख़ास असर नहीं दिखा पाई.

वीएफक्स को लेकर फिल्म पर पैनी निगाह रखी जा रही थी कि क्या ये हॉलीवुड को टक्कर दे पाएगी. इसमें कोई शक नहीं कि अयान इसमें सफल साबित हुए हैं। फिल्म का असली मज़ा इसे 3 D में देखने के बाद ही आप फिल्म का असली मज़ा उठा पाएंगे। वहीँ बात आती है गानों कि और मुस्क कि तो वो पहले ही रिलीज़ हो चुके हैं और दर्शकों को काफी पसंद आये हैं .