Thursday, April 18, 2024

Congress :चुनावी मौसम में कांग्रेस को ट्रिपल झटका, विजेंदर सिंह के बाद गौरव वल्लभ ने पार्टी छोड़ी, संजय निरुपम निष्काषित

नई दिल्ली : लोकसभा चुनाव का पहला चरण शुरु ही होने वाला है . सियासी पार्टियां जहां जोर शोर से अपनी अपनी पार्टी से चुनाव प्रचार में दिन रात एक कर रहे हैं, वहीं कांग्रेस Congress के नेताओं में मोहभंग की स्थिति दिखाई दे रही है. पिछले 24 घंटे में तीन नामचीन कांग्रेसी नेताओं ने पार्टी को अलविदा कह दिया. कल यानी बुधवार को बॉक्सर  विजेंदर सिंह ने पार्टी छोड़ी दी. वहीं महाराष्ट्र कांग्रेस के ब़ड़े नाम संजय निरुपम को पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में  निष्काषित कर दिया. अब इस में नया नाम जुड़ा है, कांग्रेस के प्रवक्ता गौरव वल्लभ का . गौरभ बल्लभ ने लंबी चौड़ी चिट्ठी लिखकर पार्टी अध्यक्ष खरगे को अपना इस्तीफा भेज दिया है. खबर है गौरव ने भी बिजेंद्र सिंह  की तरह ही बीजेपी ज्वाइन कर लिया है.

Congress के तीन बड़े नेताओं के पार्टी को कहा अलविदा

बिजेंद्र सिंह , संजय निरुपण और  गौरव वल्लभ अपने अपने क्षेत्र के बड़े नेता माने जाते हैं. इन तीनों का कांग्रेस पार्टी से जाना बड़ा नुकसान माना जा रहा है . बिजेंदर सिंह     हरियाणा , संजय निरुपम महाराष्ट्र और गौरव वल्लभ राजस्थान से आते हैं.

विजेंदर सिंह ने बुधवार को कांग्रेस छोड़ा, बीजेपी में हुए शामिल

अंतराष्ट्रीय बॉक्सर बिजेंद्र सिंह ने 2019 में राजनीतिक जीवन शुरु किया. कांग्रेस के टिकट पर दक्षिण दिल्ली से लड़े और बीजेपी के रमेश बिधूड़ी से हार गये थे सूत्रों के हवाले से खबर है कि इस बार कांग्रेस विजेंदर सिंह को हेमा मालिनी के खिलाफ मथुरा से उतारने की तैयारी में थी.बिजेंद्र सिंह मंगलवार रात तक कांग्रेस के समर्थन में ट्टीट करते नजर आ रहे थे, फिर अचानक बुधवार को बीजेपी में शामिल हो गये. बीजेपी में शामिल होते ही बिजेंद्र सिंह ने पीएम मोदी की तारीफों के पुल बांधते हुए कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में देश दुनिया में हमारा मान सम्मान बढ़ा है. इसलिए अब वो बीजेपी में शामिल होकर पार्टी का काम करेंगे . दरअसल कहा जा रहा है कि विजेंदर सिंह जिस जाट समाज से आते हैं , वहीं जाकर भिवानी से चुनाव लड़ना चाहते थे लेकिन पार्टी उन्हें मथुरा से हेमा मालिनी के खिलाफ उतारने का मन बना रही थी. अब विजेंदर सिंह के बीजेपी में आने के बाद पार्टी  पश्चिमी यूपी, हरियाणा और राजस्थान के वोटर्स को साधने की कोशिश करेगी.

संजय निरुपम को कांग्रेस ने निकाला   

महाराष्ट्र में कांग्रेस पार्टी में उठापटक क दौर जारी है. कांग्रेस ने संजय निरुपम को पार्टी विरोधी बयानबाजी के आरोप में कार्रवाई करते हुए 6 साल के लिए पार्टी से निष्काष्त कर दिया था. फिर संजय निरुपम ने कहा कि उन्होंने खुद पार्टी से इस्तीफा दिया. फिर कांग्रेस ने संजय निरुपम को पार्टी से निलंबित करने का प्रेस नोट जारी किया. संजय निरुपम से पहले महाराष्ट्र कांग्रेस के बड़े नेता अशोक चव्हान और मिलिंद देवड़ा ने भी कांग्रेस छोड़ दिया था. संजय निरुपम  पर आरोप है कि उन्होंने यूटीबी के साथ सीट बंटबारे को लेकर शीर्ष नेतृत्व पर टिप्पणी की थी. इसके बाद कांग्रेस ने पहले संजय  निरुपम को स्टार कैंपेनर की लिस्ट से निकाला, फिर पार्टी से 6 साल के लिए निष्काषित कर दिया .

ये भी पढ़े :- Pappu Yadav: पूर्णिया से बतौर निर्दलीय भरा नामांकन, बोले- “कांग्रेस का समर्थन है प्राप्त…बहुत सारे लोगों ने हमारी राजनीतिक हत्या करने की साजिश की”

दरअसल महाराष्ट्र में संजय निरुपम की मुंबई उत्तर से सासंद हैं और इस बार मुंबई उत्तर पश्चिम सीट से उनकी दावेदारी थी, लेकिन शिससेना उद्धव गुट ने एकतरफा फैसला लेते हुए मुंबई के 6 लोकसभा सीटों में से 4 पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी.इस फैसले से निरुपम नाराज थे. आरोप लगाया कि महाराष्ट्र में शिससेना उद्दव गुट कांग्रेस पर हावी हो रही है. हालांकि बता दें कि मुंबई उत्तर की सीट पर संजय निरुपम की दोवदारी मजबूत है. 2014 में यहां से बीजेपी के गोपाल शेट्टी को हार का मुंह देखना

Latest news

Related news