Saturday, February 24, 2024

Mukesh Ambani बनेंगे पेटीएम के पालनहार ? खबर से JioFin का शेयर बना रॉकेट,दोनों कंपनियों ने दी सफाई

नई दिल्ली : भारत में पेटीएम का संकट बना हुआ है और ऑनलाइन पेमेंट सर्विस देने वाली इस फर्म को हर रोज भारी घाटा उठाना पड़ रहा है. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की ओर से बैंकिंग सर्विस पर बैन लगाने के आदेश के बाद Paytm Share में लगातार लोअर सर्किट लग रहा है. पेटीएम पेमेंट बैंक पर लगी रोक के फैसले के बाद पेटीएम नए विकल्पों की तलाश में हैं. पेटीएम की मूल कंपनी वन 97 बैंकों और एनबीएफसी वॉलेट से बातचीत कर रहा है. इसी बीच यह कहा जा रहा है कि Mukesh Ambani की जियो फाइनेंशियल सर्विसेज पेटीएम वॉलेट का टेकओवर करने वाली है. लेकिन इस पर जियो फाइनेंशियल सर्विस की ओर से बयान जारी करके सच्चाई बताई गई.

Mukesh Ambani
                                                                            Mukesh Ambani

RBI के एक्शन के बाद पेटीएम संकट बढ़ गया है और इस बीच पेटीएम की पेरेंट कंपनी One97 Communication Ltd के शेयर रोज धराशायी होते जा रहे हैं. बीते कारोबारी दिन सोमवार को भी इसमें शेयर बाजार ओपन होने के साथ ही 10 फीसदी का लोअर सर्किट लग गया. वहीं दूसरी ओर एशिया के सबसे रईस इंसान मुकेश अंबानी की नई कंपनी जियो फाइनेंशियल सर्विसेज के शेयर रॉकेट की तरह भागते नजर आए. दिन भर के कारोबार के दौरान Jio Financial Services Stock ने हरे निशान पर कारोबार किया और कारोबार के अंत में ये 14 फीसदी की जोरदार उछाल के साथ 289 रुपये के लेवल पर क्लोज हुए.

Paytm ने भी कर दी तस्वीर साफ

Mukesh Ambani की जियो फाइनेंशियल सर्विसेज के साथ ही Paytm की ओर से भी इस तरह की रिपोर्ट पर स्पष्टीकरण दे दिया गया है. फिनटेक फर्म ने कहा है कि वह अपना वॉलेट कारोबार से बेचने के लिए किसी भी कंपनी से बातचीत नहीं कर रही है. एक रिपोर्ट में कंपनी से जुड़े सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि कंपनी बिक्री के लिए किसी भी कंपनी के साथ कोई चर्चा नहीं कर रही है. महज तीन दिनों के कारोबार में ही पेटीएम के शेयर 43 फीसदी तक टूट चुके हैं और कंपनी के मार्केट कैप में 20,500 करोड़ रुपये से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई है.

ये भी पढ़ें : Union Budget 2024 : 1 फरवरी को पेश होगा देश का अंतरिम बजट,ऑटोमोबाइल सेक्टर को हैंं सरकार से काफी उम्मीदें

बीते 31 जनवरी 2024 को भारतीय रिजर्व बैंक ने एक ऑडिट रिपोर्ट और बाहरी ऑडिटर्स के द्वारा सत्पापित रिपोर्ट्स के बाद पेटीएम की बैंकिंग सर्विस में गैर अनुपालन और मैटेरियल सुपरवाइजरी चिंताओं के बीच Paytm Payment Bank की सेवाओं पर बैन लगाने का आदेश जारी किया था. केंद्रीय बैंक ने अपने आदेश में कहा था कि ये आदेश 29 फरवरी के बाद से लागू होने जा रहा है. इसके बाद पेटीएम पेमेंट बैंक ना तो नए ग्राहक जोड़ सकेगा और ना ही PPBL को इस तय तारीख के बाद किसी भी ग्राहक खाते, वॉलेट और FASTag में डिपॉजिट स्वीकारने का अधिकार नहीं होगा. RBI ने ये एक्शन बैंकिंग रेगुलेशन एक्ट-1949 के सेक्शन 35A के तहत लिया है. रिजर्व बैंक ने 15 मार्च तक पेटीएम को नोडल अकाउंट सेटल करने के लिए आदेशित किया है.

Latest news

Related news