Friday, February 23, 2024

Gaumootr states: डीएमके सांसद ने हिंदी भाषी राज्यों को बताया गौमूत्र राज्य, बीजेपी ने कहा सनातन का अपमान बर्दाश्त नहीं करेंगे

5 राज्यों में आए नतीजों के बाद ये बहस चल पड़ी है कि क्या बीजेपी सिर्फ हिंदी पट्टी की पार्टी है. लोग सोशल मीडिया पर सवाल पूछ रहे है कि क्यों पढ़ा-लिखा दक्षिण भारत बीजेपी को वोट नहीं करता है. आपको याद दिला दें, रविवार को आए पांच राज्यों के नतीजों में जहां बीजेपी ने छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान में जीत दर्ज की वहीं कांग्रेस ने तेलंगाना में जीत हासिल कर इस बहस को हवा दी है कि बीजेपी कम पढ़े लिखे उत्तर भारत की पार्टी है. जहां लोग जाति और धर्म के नाम पर वोट करते है. इसी बहस को आगे बढ़ाते हुए मंगलवार को लोकसभा में डीएमके सांसद ने हिंदी भाषी राज्यों को गौमूत्र राज्य कहकर नया विवाद शुरु कर दिया है. पहले ही बीजेपी डीएमके को उदयनिधि स्टालिन के बयानों के चलते सनातन विरोधी बताती थी अब गौमूत्र राज्य कहना भी उसे सनातन का अपमान नज़र आ रहा है.

डीएम के सांसद ने क्या है

संसद का शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन लोकसभा में जम्मू और कश्मीर पुनर्गठन (संशोधन) विधेयक, 2023 पर चर्चा के दौरान DMK सांसद डी.एन.वी. सेंथिलकुमार एस. ने कहा, “इस देश के लोगों को यह सोचना चाहिए कि बीजेपी की ताकत केवल हिंदी राज्यों में चुनाव जीतना है, जिन्हें हम आम तौर पर ‘गौमूत्र’ राज्य कहते हैं…”
जम्मू कश्मीर से राज्य का दर्जा छीने जाने पर डीएमके सांसद सेंथिलकुमार ने कहा कि क्योंकि बीजेपी दक्षिण भारत में कदम नहीं जमा पा रही है इसलिए वो वहां के सब राज्यों को भी केंद्र शासित प्रदेश घोषित कर वहां भी सत्ता हासिल करना चाहेगी.

सनातन धर्म का अपमान देश बर्दाश्त नहीं करेगा- केंद्रीय मंत्री मीनाक्षी लेखी

वहीं, DMK सांसद डी.एन.वी. सेंथिलकुमार एस. के ‘गौमूत्र’ वाली टिप्पणी को बीजेपी ने सनातन धर्म के खिलाफ बताया. केंद्रीय मंत्री मीनाक्षी लेखी ने कहा, “यह सनातनी परंपरा का बहुत बड़ा निरादर है…सनातनी परंपरा और सनातनियों का इस तरहा का अपमान देश बर्दाश्त नहीं करेगा. चाहे DMK हो या कोई भी, जो देश की आस्था के साथ खिलवाड़ करेगा उसे जनता मुंहतोड़ जवाब देगी.”

इस बात से हमारा कोई लेना-देना नहीं है-अधीर रंजन चौधरी

वहीं DMK सांसद डी.एन.वी. सेंथिलकुमार एस. की ‘गौमूत्र’ वाली टिप्पणी पर कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा, “…इस बात से हमारा कोई लेना-देना नहीं है…”

हलांकि जब बीजेपी गो मूत्र को पवित्र मानती है तो हिंदी भाषी राज्यों को ‘गौमूत्र’ राज्य कहना उसे अपमान कैसे लगा समझना मुश्किल है.

लोकसभा में हो रही है जम्मू और कश्मीर पुनर्गठन (संशोधन) विधेयक पर चर्चा

आपको बता दें, जम्मू और कश्मीर पुनर्गठन (संशोधन) विधेयक, 2023 और जम्मू और कश्मीर आरक्षण (संशोधन) विधेयक, 2023 लोकसभा में पेश किया गया है और चर्चा चल रही है. जहां सत्तारूढ़ बीजेपी अनुच्छेद 30 और 35ए को निरस्त करने का बचाव कर रही है, वहीं विपक्ष उस कार्रवाई की संवैधानिक व्यवहार्यता पर सवाल उठा रहा है जिसके कारण कानूनों को निरस्त किया गया.

एक देश में दो प्रधानमंत्री, दो संविधान और दो झंडे कैसे हो सकते हैं?- अमित शाह

इससे पहले विधेयक पर बोलते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, “एक देश में दो प्रधानमंत्री, दो संविधान और दो झंडे कैसे हो सकते हैं? जिन लोगों ने ऐसा किया, उन्होंने गलत किया. पीएम मोदी ने इसे ठीक किया. हम 1950 से कह रहे हैं कि देश में ‘एक प्रधान, एक निशान, एक विधान’ होना चाहिए और हमने यह किया.”

ये भी पढ़ें-Karni Sena: जयपुर में करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की गोली मारकर…

Latest news

Related news