Friday, February 23, 2024

दिल्ली में नहीं थम रहा खौफनाक अपराधों का सिलसिला, क्या कर रही है दिल्ली पुलिस?

दिल्ली इन दिनों गुनहगारों का अड्डा और अपराधों की राजधानी बन चुकी है. जहाँ हर रोज़ दिल को दहलाकर रख देने वाली खबरे सामने आती है. कभी एक मासूम बच्चे से बलात्कार तो कभी दिन दहाड़े किसी नौजवान की हत्या. ये लगातार घटती घटनाएं दिल्ली पुलिस की विफलता और केंद्र की अनुशासनहीनता की तरफ इशारा करती है. इस बीच फिर एक बार एक खौफनाक घटना ने दिल्ली को दहलाकर रख दिया . जहाँ एक मासूम बच्चे की बलि चढ़ा दी गई .

मामला दक्षिण दिल्ली के लोधी कॉलोनी का है . जहाँ उस वक्त हड़कंप मच गया . जब शनिवार देर रात एक 6 साल के बच्चे की गला काटकर हत्या कर दी गई. पुलिस ने हत्या के दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. मिली जानकारी के मुताबिक आरोपियों ने नशे की हालत में मासूम की हत्या की. इलाके के लोगों ने जब इन दोनों शख्स को पकड़ा. तो उनका कहना था कि शंकर भगवान ने इनसे एक बच्चे की बलि मांगी थी और इसी वजह से उन्होंने मासूम की गला रेत कर हत्या कर डाली.
खबर के मुताबिक, लोधी कॉलोनी के सीआरपीएफ मुख्यालय के अंदर कुछ लेबर कर्मचारी भजन कीर्तन का कार्यक्रम कर रहे थे. इतने में ही पता चला कि 6 साल का धर्मेंद्र नाम का एक बच्चा कहीं गुम हो गया है. इसके बाद परिजन बच्चे को खोजने में जुट गए. इसी दौरान एक झुग्गी के बाहर से खून बहता हुआ दिखाई दिया. दोनों आरोपी बच्चे को छिपाने की कोशिश कर रहे थे. इन दोनों के कपड़े खून से सने हुए थे बच्चे के पिता ने शोर मचा दिया और आसपास के लोगों ने विजय कुमार और अमर कुमार नाम के दोनों आरोपियों को वहीं पकड़ लिया.
मामले की जानकारी मिलते ही लोधी कॉलोनी की पुलिस वहां पहुँची और घटनास्थल से आरोपी विजय कुमार और अमर कुमार को गिरफ्तार कर लिया और जांच में पता चला कि यह बिहार के रहने वाले हैं. जिस समय पुलिस ने गिरफ्तार किया उस समय यह दोनों युवक बेहद नशे की हालत में थे.
जब पुलिस ने आरोपियों से पूछताछ की तो पता चला कि भगवान भोले शंकर ने इनको बोला था कि किसी बच्चे की बलि चाहिए और इसी के चलते इन्होंने 6 साल के मासूम की गला रेत कर हत्या कर डाली. फिलहाल परिजनों का बच्चे की मौत के बाद रो-रो कर बहुत बुरा हाल है. पूरे इलाके में भय का माहौल बना हुआ है .
हालाँकि ये एक लौती घटना नहीं है पिछले एक महीने में ऐसी ही कई दर्दनाक घटनाये सामने आ चुकी हैं. जहाँ एक तरफ नॉर्थ ईस्ट दिल्ली इलाके में रहने वाले, 25 साल के मनीष की शनिवार शाम तीन आरोपियों ने सरेआम चाकुओं से 16 बार गोदकर बेरहमी से हत्या कर दी थी. आरोपियों के नाम फैजान, बिलाल और आलम हैं. सिर्फ इतना ही नहीं हत्या करने के बाद आरोपियों ने गली में चीखते हुए कहा था कि मार दिया है. लाश उठा लो. इससे पता चलता है कि राजधानी में प्रशासन कितना सख्त है और पुलिस कितनी मुस्तैद .

वहीँ दूसरी तरफ बीते हफ्ते नार्थ ईस्ट दिल्ली के दिल्ली में एक 12 साल के लड़के के साथ हैवानियत का मामला सामने आया है. आरोप है कि सीलमपुर इलाके में 4 लोगों ने बच्चे के साथ पहले सामूहिक कुकर्म किया है. फिर उसकी लाठी डंडों से बेरहमी से पिटाई भी की. बाद में आरोपियों ने हैवानियत की हदें पार कर दीं और लड़के के प्राइवेट पार्ट में रॉड डाल दी, जिससे वह गंभीर रूप से जख्मी हो गया. घटना के लगभग 15 दिन बाद पीड़ित मासूम बच्चा मौत से जंग हार गया . मामले में कार्रवाई करते हुए उत्तर पूर्वी दिल्ली पुलिस ने दो नाबालिग आरोपियों को गिरफ्तार किया है. जिनमे से एक उसका चचेरा भाई था.
इस घटना के बाद ये साबित हुआ कि दिल्ली में महिलायें तो छोड़िये बच्चे भी और लड़की भी सुरक्षित नहीं है . आखिर क्या कर रही है दिल्ली पुलिस . क्या कर रहा है दिल्ली का प्रसाशन? आखिर कब दिल्ली वासी खुद को सुरक्षित महसूस करेंगे? कब दिल्ली अपराध मुक्त होगी ? ये सवाल आज राजधानी का हर नागरिक पूछता है.

Latest news

Related news