Saturday, February 24, 2024

Qatar released 8 Indian : कतर सरकार ने 8 भरतीयों को किया रिहा,भारत सरकार ने जताया आभार

नई दिल्ली : भारत सरकार ने कतर में हिरासत में लिये गये 8 भारतीय नागरिकों के रिहाई का स्वागत किया है. ये 8 भारतीय नागरिक भारतीय नौसेना से जुड़े थे और कतर की एक कंपनी में बतौर एक्सपर्ट अपनी सेवाएं दे रहे थे.ये सभी आठों भारतीय नागरिक डेहरा ग्लोबल कंपनी के लिए काम कर रहे थे. Qatar released 8 Indian कतर सरकार के फैसले के बाद 8 में से 7 भारतीय वापस अपने देश लौट आये हैं. आठों भारतीयों  नागरिकों की रिहाई और घर वापसी को संभव करने के लिए भारत सरकार ने कतर सरकार की सराहना की है. भारत सरकार ने एक  संदेश जारी किया है जिसमें लिखा है भारत सरकार कतर के अमीर के फैसले की सराहना करती हैं. इस संबंध में विदेश मंत्रालय ने एक विज्ञप्ति जारी की है.

Qatar 8 Indian released : जासूसी के आरोप में मिली थी सजा ए मौत 

दऱअसल डहरा ग्लोबल कंपनी मे कम कर रहे 8 भारतीय पूर्व नौसैनिकों को कतर सरकार ने जासूसी के आरोप में मौत की सजा सुनाई थी. आठ पूर्व नौसैनिकों में कैप्टन नवतेज सिंह गिल, कैप्टन सौरभ वशिष्ठ  कैप्टन बीरेंद्र वर्मा,  कमांडर अमित नागपाल, कमांडर सुगुनाकर पकाला, कमांडर पूर्णेंदु तिवारी ,कमांडर संजीव गुप्ता और नाविक रागेश गोपाकुमार शामिल हैं.

कतर सरकार के फैसले के बाद भारत सरकार ने की थी अपील

आठो भारतीय पूर्व नोसैनिकों पर कतर सरकार के गंभीर आरोपों के खिलाफ भारत सरकार ने कतर कोर्ट का दरवाजा खटखटया था और कोर्ट ने भारत सरकार का दलील के बाद 28 दिसंबर 2023 को अपने फैसले में भारतीय सैनिकों के खिलाफ दी गई सजा को सजा कम कर दी थी. मौत की सजा पर तत्काल रोक लगा दी गई थी.

डिटेल जानकारी के लिए ये पढ़ें:-Ex-Navy Officers: भारत को कतर की अदालत में मिली बड़ी सफलता, नौसेना के 8 पूर्व अफसरों को नहीं होगी फांसी

दहरा ग्लोबल टेक्नोलॉजी एंड कंसलटेंसी सर्विसेज में करने के दौरान लगे थे आरोप 

ये आठों भारतीय नागरिक कतर की कंपनी दहरा ग्लोबल टेक्नोलॉजी एंड कंसलटेंसी सर्विसेज के लिए अब काम करते थे. इस कंपनी के अंतर्गत यह सभी 8 रिटायर्ड इंडियन नेवी अधिकारी कतरी एमिरी नौसेना को ट्रैनिंग और दूसरी जरूरी सेवाए देने के लिए गए हुए थे. 8 रिटायर्ड इंडियन नेवी अधिकारियों में से एक रिटायर्ड कमांडर पुणेंदु तिवारी भी थे,जो दहरा ग्लोबल टेक्नोलॉजी एंड कंसलटेंसी सर्विसेज के मैनेजिंग डायरेक्टर रहे और उन्हें साल 2019 में भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज द्वारा प्रवासी भारतीय सम्मान से भी नवाजा गया था. उनकी छोटी बहन डॉक्टर मीतू भार्गव ने बारत सरकार से इस मामले में हस्तक्षेप करने के लिए गुहार लगाई थी. .

Latest news

Related news