Sunday, May 26, 2024

एक समय था जब लोग कबूतर उडाते थे..आज चीते छोड़े जा रहे ..

देश के अंदर और देश के बाहर निर्यातकों को तेज और व्यवस्थित ट्रांसपोर्टेशन मिले इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को नेशनल लॉजिस्टिक्स पॉलिसी लांच की .इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव के दौरान देश ने विश्व में विकसित भारत की तऱफ एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है.नेशनल लॉजिस्टिक्स पॉलिसी के बारे मे बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि भारत में लास्ट माइल डिलिवरी तेजी से हो, ट्रांसपोर्ट से जुड़ी परेशानी कम हो, ट्रांसपोटरों का समय और पैसा दोनों बचे, ट्रांसपोर्टेशन में विलंब के कारण एग्रो प्रोडक्ट की जो बर्बादी होती है,इन सारे विषयों के समाधान के लिए निरंतर प्रयास चल रहा है, और इसी परिणाम है कि आज देश में नेशनल लॉजिस्टिक्स पॉलिसी लांच की जा रही है.इसका फायदा केवल व्यापारियों को ही नहीं बल्कि छोटे उद्योगों और देश के अंदर अलग अलग विभागों के बीच समन्वय स्थापित करने के लिए भी महत्वपूर्ण होगा.हम कार्य के क्षेत्र मे जो गति चाहते हैं वो गति लॉजिस्टिक्स पॉलिसी से हमें मिलेगी.

प्रधानमंत्री मोदी ने बदलती भारतीय अर्थ व्यवस्था को रेखांकित करते हुए कहा कि आज हम विश्व में पांचवी बड़ी अर्थ व्यवस्था हैं. देश बदल रहा है.एक समय था जब हम कबूतर उडाते थे,आज देश चीता छोड़ रहा है.

प्रधानमंत्री मोदी ने सुबह कूनो नेशनल पार्क मे चीता छोड़ने और शाम को लॉजिस्टिक्स पॉलिसी लांच के बीच संबंध जोड़ते हुए कहा कि  भले ही दूर से दोनों के काई संबंध नजर नहीं आता है लेकिन इन दोनों का संबंध है.जिस तरह चीता फूर्ति के साथ एक जगह से दूसरे जगह पहुंच जाता है वैसे ही सामान(लगेज) एक जगह से दूसरी जगह चीते की रफ्तार से पहुंचे,देश उस तेज गति से आगे बढ़ना चाहता है .

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मेक इन इंडिया औऱ आत्मनिर्भर भारत की गूंज केवल भारत में ही नहीं विश्वभर में हो रही है.आज भारत एक्पपोर्ट के बड़े से बड़ा लक्ष्य पूरा कर रहा है.पहले जिस बात के बारे में केवल सोचा भर जाता था, आज उसे पूरा भी कर रहे है.दुनिया के देश अब ये मानने लगे हैं कि भारत एक मैनिफेक्चिरिंग हव के रुप में विकसित हो रहा है.

नेशनल लॉजिस्टिक्स पॉलिसी के बारे में विस्तार से बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा  कि ये पॉलिसी एक नई उर्जा लेकर आई है. इस पॉलिसी के जरिये देश के किसानों छोटे उद्योगों , निर्यातकों , कारोबारियों को लिए एक संजीवनी हाथ लगेगी.

पीएम मोदी ने कहा कि इस पॉलिसी के लागू होने से सरकार की जिम्मेदारियां भी बढ़ जायेगी. बिनी पॉलिसी के सरकारी विभाग भी अपना पर्फोमेंस निभाने से बचते है.

पॉलिसी ड्राइविंग फोर्स और गाइडिंग फोर्स दोनों के रुप में काम करती है.पीएम ने कहा कि इस पॉलिसी को केवल एक कागजी दस्तावेज ना माना जाये बल्कि इसके आधार पर हमें चीते की गति से सामान के एक जगह से दूसरे जगह तक पहुंचाना है.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज कोई पॉलिसी बनती है तो पहले ग्राउंड तैयार किया जाता है .तभी वो पॉलिसी सफलता से लागू हो पाती है.पीएम मोदी ने जोर देते हुए कहा कि नेशलन लॉजिस्टिक पलिसी भी अचानक एक दिन लांच नहीं की जा रही है बल्कि इसके पीछे  8 वर्षों की मेहनत और नीतिगत बदलाव के साथ साथ मेरा 22 साल का अनुभव भी जुड़ा है.

सरकार लिजिस्टिक्स का खर्चा कम करने के लिए अलग अलग माध्यमों से कम खर्च में इको फ्रेंडली रास्ते तलाश रही हैं.कोस्ट इफेक्टिव ट्रांसपोर्टेशन के लिए जलमार्गों का सहारा लिया जा रहा है.

सरकार ने लॉजिस्टिक्स कनेक्टिविटी के लिए सागरमाला,भारत माला जैसी योजनाएं शुरु की.डेडिकेटेड फ्रेट कोरिडोर बनाये.एक्सपोर्ट में मदद के लिए एयपोर्ट्स पर 40 एयरकार्गो टर्समिनस बनाये गये हैं.30 एयरपोर्टस पर कोल्ड स्टोरेज फैसिलिटी मुहैय्या कराई गई है.देशभर में 30 मल्टी मॉडल लाजिस्टिक हब भी बनाये जा रहे हैं.

आज देश नें करीब 60 एयरपोर्टस पर कृषि उड़ान की सुविधा उपलब्ध है.इंफ्रास्ट्रचर के इन प्रोजेक्ट्स पर लाखों रुपये के इनवेस्टमेंट के साथ ही सरकार ने टेक्नोलॉजी की मदद से भी लाजिस्टिक्स सेक्टर को मजबूत करने का प्रयास किया है.इस संचित के माध्यम से पेपरलेस एक्जिम ट्रेड प्रोसेस हो,कस्टम्स में फेसलेस एसेसमेंट हो या फास्टटैग का प्रावधान हो , इन सभी ने लॉजिस्टिक्स सेक्टर की कार्यक्षमता को बढाया है.पहले के नियमों के मुताबिक लॉजिस्टिक्स के ट्रांसपोर्टेशन में अलग अलग राज्यों मे जगह जगह ब्रेक लग जाता था लेकिन जब से जीएसटी प्रणाली आई है, ये समस्याएं काफी हद तक कम हो गई हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने कॉस्ट इफेक्टिव ट्रांसपोर्टेशन के लिए ड्रोन के इस्तेमाल को भी बहुत कारगर तरीका बताया. इससे चीजो के कम समय में नीयत जगह पर पहुचाने मे बड़ी मदद मिली है.ड्रोन ट्रांसपोर्टेशन एक बहुत बड़ा क्षेत्र विकसित होने वाला है.

प्रधानमंत्री मोदी अपने भाषण के दौरान आज एक खास शैली में बोलते नजर आये औऱ बार बार कहा कि उनकी सरकार मे कोई भी पॉलिसी बिना किसी व्यापक रिसर्च औऱ ग्राउंड वर्क के नहीं बनती है.यानी पीएम ने अपने उपर लगे उन आरोप का जवाब दिया जो कृषि कानून के समय में उनपर लगाये गये थे.

प्रधानमंत्री मोदी ने नेशलन लाजिस्टिक्स पॉलिसी लांच करने के बाद कहा कि सरकार ने देश में आधारभूत इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार कर दिया है, टेकऑफ स्टेज तक ला दिया है, अब बस सभी लोगों को मिलकर टेकआफ करना है.लॉजिस्टिक्स  पॉलिसी के जरिये देश में अभूतपूर्व बदलाव आने वाले हैं.13-14 प्रतिशत के लाजिस्टिक्स कॉस्ट को घटा कर 8 प्रतिशत तक के सिंगल डीजिट मे लाना है .

नेशनल लाजिस्टिक्स पॉलिसी के साथ ही सरकार ने आज युनिफाइड लॉजिस्टिक्स इंटरफेस प्लेटफॉर्म (ULIP)  भी लांच किया है जिसके जरिये निर्यातकों को लंबी कागजी प्रक्रिया के जगह सभी जानकारी एक ही डीजिटल प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध हो जायेगा.

नेशनल लॉजिस्टिक्स पॉलिसी के तहत ‘ईज ऑफ लॉजिस्टिक्स सर्विसेस(ELOGS)’ के नाम से एक डीजिटल फ्लेटफॉर्म की शुरुआत की गई है.इस पोर्टल के माध्यम से इंडस्ट्री एसोसियेशन ऐसे किसी भी  मामले को लेकर सीधे सरकार और अधिकारियो तक पहुंच सकते हैं जिससे उनके आपरेशन्स और परफोर्मेंस मे समस्या आ रही है, मुद्दा सीधे सरकारी एजेंसी के साथ उठाया जा सकता है.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देश के अलग अलग हिस्सों में पीएम गति शक्ति योजना के अंतर्गत (केंद्र और राज्य सरकारों के अंतर्गत) चल रहे इंफ्रास्ट्रकचर प्रोजेक्ट के बारे में सारी जानकारी एक ही प्लेटऑर्म पर उपलब्ध होंगी जिससे इस क्षेत्र में काम करने वाले वालों को आसानी हो जायेगी.

कुल मिलाकर प्रधानमंत्री मोदी ने विश्वकर्मा दिवस के मौके पर देश में एक नये सृजन के मार्ग को प्रशस्त और तेज रफ्तार करने की शुरुआत की है. नेशलन लाजिस्टिक्स पॉलिसी के जरिये निर्बाध व्यापार और ट्रांसपोर्टेशन में क्रांति लाई जा सकती है.

Latest news

Related news