Sunday, May 26, 2024

पटना के ADM के.के. सिंह जांच में दोषी करार, जा सकती है नौकरी, जानिए पूरा मामला!

किसी ने सच ही कहा है. ऊपर वाले की मेहर और कानून के इन्साफ में देर है पर अंधेर नहीं. तपस्या और इन्साफ की लिए लड़ी गई लड़ाई एक न एक दिन रंग लाती है. कुछ ऐसा ही हुआ बिहार की राजधानी पटना में. जहाँ पटना के ADM के के सिंह जांच में दोषी पाए गए हैं. बहुत जल्द उनपर विभागीय कार्रवाई होगी. मामले की रिपोर्ट जांच कमेटी ने DM को सौंपी दी है. जिसमें ADM को तिरंगा लिए TET अभ्यर्थियों पर लाठीचार्ज करना ग़लत बताया गया है.

दरअसल मामला 22 अगस्त का है जब पटना में TET अभ्यर्थी पर लाठीचार्ज हुआ था. पटना के डाक बंगला चौराहा पर 22 अगस्त को टीईटी अभ्यर्थी पर हुए लाठीचार्ज मामले में आखिरकार एडीएम लॉ एंड ऑर्डर गुनहगार पाए गए हैं. जांच कमिटी ने डीएम को रिपोर्ट सौंप दी है, जिसके बाद पटना डीएम चंद्रशेखर सिंह ने एडीएम केके सिंह को शो कॉज नोटिस जारी कर फाइनली जवाब मांगा है.

मिली जानकारी के मुताबिक जांच कमिटी ने सभी बिंदुओं पर बारीकी से जांच की गई है. जिसमें डाक बंगला चौराहा पर लगे सीसीटीवी फुटेज, पुलिस अधिकारियों के बयान के बाद यह पाया गया कि एडीएम केके सिंह ने जरूरत से ज्यादा बलपूर्वक प्रयोग किया और तिरंगे का भी अपमान किया. जांच कमिटी की रिपोर्ट के मुताबिक एडीएम को छात्र की पिटाई नहीं करनी थी, जब छात्र हाथ में तिरंगा लेकर प्रदर्शन कर रहा था. तो उसे सीधे गिरफ्तार करना चाहिए था. जांच कमिटी ने एडीएम की पूरी कार्रवाई पर सवाल उठाते हुए उन्हें दोषी माना गया है.

22 अगस्त को सातवें चरण की प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षक बहाली के विज्ञापन जारी करने की मांग को लेकर राज्य के बहुत से अभ्यर्थी डाक बंगला पर प्रदर्शन करने पहुंचे, इसी दौरान वहां मौजूद एडीएम केके सिंह ने तिरंगा लिए एक छात्र की बेरहमी से पिटाई कर दी थी और तिरंगे पर भी लाठी चलाई थी. जिसके बाद बवाल मचा था. डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने भी जिलाधिकारी से पूरे मामले पर जांच करने और कार्रवाई का आदेश दिया था जिसके बाद डीएम ने जांच कमिटी गठित की थी. जांच का जिम्मा डीडीसी पटना और एसपी सिटी को दिया गया था, हालाँकि कार्रवाइ का परिणाम आने में भी दिए गए समय से ज्यादा वक्त लगा। लेकिन वो कहावत है न देर आये दुरुस्त आये .

माना जा रहा है कि अब एडीएम पर बड़ा एक्शन हो सकता है और उनके खिलाफ एफआईआर भी किया जा सकता है, क्योंकि राष्ट्रध्वज का अपमान हुआ था और उसमें एडीएम की नौकरी पर भी संकट की तलवार लटक सकती है. वहीँ दूसरी तरफ पीड़ित छात्र अनिशुर्रहमान की हालत अब भी गंभीर बनी है क्योंकि गले और कान के पास गहरे घाव हैं.

Latest news

Related news