Sunday, May 26, 2024

Lok Sabha Election 2024: बिहार में तेजस्वी यादव के रोजगार और बेरोजगारी के जाल में फंस गई है एनडीए, मुद्दे बदलने की कोशिश जारी

Lok Sabha Election 2024 आधे के ज्यादा संपन्न हो गया है. 7 में से 4 चरण के वोट पड़ गए है और अगले 20 दिन में देश की नई सरकार का फैसला जनता के सामने होगा. लेकिन बिहार में अब भी कोशिश मुद्दे बदलने की हो रही है. एक तरफ जहां आरजेडी रोजगार, महंगाई, बेरोज़गारी के मुद्दों पर अड़ी हुई है तो दूसरी तरफ एनडीए गठबंधन की एकता, भ्रष्टाचार जैसे मुद्दों की ओर जनता का ध्यान ले जाना चाहता है.

25 करोड़ नौजवान ‘गतायु’ हो चुके हैं -तेजस्वी यादव

बिहार के मुख्यमंत्री और राजद नेता तेजस्वी यादव जो शुरु से बेरोजगारी के मुद्दे को लेकर चल रहे है अब पीएम मोदी की उम्र और उनके रिटायरमेंट को लेकर सवाल पूछने लग है. तेजस्वी यादव ने कहा, “प्रधानमंत्री की गलत नीतियों के कारण आज 25 करोड़ नौजवान ‘गतायु’ हो चुके हैं, अर्थात जो युवा गतायु हुए हैं वो बेरोजगार हो चुके हैं… उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ किया गया है. 25 करोड़ मामूली संख्या नहीं है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद नीति बनाई थी कि 75 साल की उम्र के बाद लोग मार्गदर्शक मंडली में जाएंगे… जब 22 साल में वे(पीएम मोदी) लोगों को रिटायर कर रहे हैं और 25 साल की उम्र में गतायु कर रहे हैं तो मुझे विश्वास है कि वे अपनी बनाई हुई नीति के अनुसार खुद मार्गदर्शक मंडली में बैठेंगे.”

Lok Sabha Election 2024, INDI गठबंधन में एकता कहां है?-चिराग पासवान

वहीं राजद नेता तेजस्वी यादव के बयान पर LJP(रामविलास) प्रमुख चिराग पासवान ने कहा, “…ये दर्शाता है कि वे हमारे मुख्यमंत्री(नीतीश कुमार) के बिना कितने असमर्थ और कमजोर हैं… हमारा NDA गठबंधन कितना मजबूत है जनता जानती है… वहीं INDI गठबंधन में एकता कहां है?… बिहार में पांचवें चरण का चुनाव करीब है. आप मुझे एक भी मंच दिखा दीजिए जो भव्य तरीके से तैयार हुआ हो और जहां INDI गठबंधन के तमाम घटक दल दिखाई दिए हों…”

तेजस्वी यादव घबराए हुए हैं.- गिरिराज किशोर

वहीं तेजस्वी यादव के बयान पर केंद्रीय मंत्री व बेगुसराय लोकसभा सीट से भाजपा उम्मीदवार गिरिराज सिंह ने कहा, “तेजस्वी यादव घबराए हुए हैं. नीतीश कुमार 2005 के रुतबा में हैं और वे जंगलराज को आने नहीं देंगे… तेजस्वी यादव डरे हुए हैं क्योंकि उनके साथ कोई वोट नहीं है… अति पिछड़े सभी भाजपा के साथ हैं.”

बिहार में लड़ाई इस बार रोजगार बनाम गुंडा राज की है. एक तरफ तेजस्वी यादव युवाओं के सवाल उठा रहे है तो दूसरी तरफ एनडीए लालू के उस राज की याद दिला रहा है जिसे इन युवाओं ने देखा ही नहीं.

Latest news

Related news