Saturday, April 13, 2024

ITBP बैंड ने जीरो फेस्टिवल ऑफ म्यूजिक में धूम मचाई

अरुणाचल प्रदेश का जीरो घाटी दो साल बाद एक बार फिर से संगीत के धुन से गूंज रहा है. दो साल के कोविड ब्रेक के बाद इस साल पूरे धूमधाम से जीरो वैली में म्यूजिक फेस्टिवल का आयोजन किया गया है. इस फेस्टिवल में अरुणाचल प्रदेश के लोकल रॉकबैंड्स से लेकर की बड़े रॉकबैंड्स शामिल होते हैं. इस साल फेस्टिवल में ITBP के बैंड ने भी हिस्सा लिया है.फेस्टिवल की शुरुआत ही IPBP के रॉकबैंड ने किया और ये शुरुआत इतनी जबर्दस्त रही कि लोग झूम उठे.

4 दिन तक चलने वाले 29 सिंतबर-2 अक्टूबर) तक चलने वाले इस फेस्टिवल के लिए ITBP जैज बैंड ने कई गाने और कार्यक्रम तैयार किए हैं. ‘हिमालय के प्रहरी’ के रूप में जानी जाने वाली आईटीबीपी हिमालयी सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थानीय आबादी के दिल और दिमाग को जीतने के लिए वर्षों से आम लोगों के कार्यक्रमों में हिस्सा लेती आई है और सीमावर्ती क्षेत्र विकास कार्यक्रम चलाती रही है.

13 सदस्यीय ITBP जैज़ बैंड ने ज़ीरो फेस्टिवल ऑफ़ म्यूज़िक के उत्सव की शुरुआत करने के लिए अपने द्वारा बनाये गये 7 गाने और 1 इंस्टूमेंट पेश किया.इस फेस्टिवल में हिस्सा लेन के लिए ITBP ने खास तौर से तैयारी की है और संगीत बनाया है.

अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने महोत्सव में आईटीबीपी बैंड के प्रदर्शन की सराहना करते हुए ट्वीटर पर लिखा  कि “ जीरो फेस्टिवल ऑफ म्यूजिक में हिमवीर आईटीबीपी जैज बैंड का प्रदर्शन बहुत अच्छा रहा.यह उत्सव 10 साल पहले शुरू हुआ था और अब रॉक संगीत प्रेमियों और दुनिया भर के पार्टिसिपेंट्स के लिए प्रमुख आकर्षण बन गया है। आओ उत्सव का हिस्सा बनें। ”

ITBP भारत-चीन सीमाओं के 3,488 किलोमीटर की सुरक्षा कर रहा है जिसमें अरुणाचल प्रदेश की सीमाएँ भी शामिल हैं. ITBP को 2004 से राज्य में सीमाओं की रक्षा के लिए तैनात किया गया है

Latest news

Related news