Friday, February 23, 2024

“बिहार में अपराधियों की सरकार” , नीतीश सरकार पर बीजेपी का हमला

बिहार में महागठबंधन की सरकार है. महागठबंधन की सरकार बनने के बाद अपराध में इजाफा हुआ है. इसको लेकर विपक्ष यानी बीजेपी नीतीश सरकार पर आक्रामक हो गई है. ताज़ा मामला बेगूसराय का है जहां दो अपराधियों ने अंधाधुंध फायरिंग करते हुए 11 लोगों को गोली मार दी थी, जिसमें एक की मौत हो गई और 10 घायल हैं.

बेगूसराय की घटना को लेकर सुशील मोदी ने सरकार पर जमकर हमला बोला है. सुशील मोदी ने कहा है कि बिहार में तेजस्वी यादव की सरकार बनने के बाद अपराधियों को ऐसा लग रहा है कि ये अपराधियों की अपनी सरकार बन गई है. सुशील मोदी ने कहा कि बेगूसराय में जैसी घटना हुई वैसी घटना सिर्फ बिहार नहीं बलकि हिंदुस्तान के इतिहास में कभी नहीं हुई थी. सुशील मोदी ने सुशासन पर सवाल करते हुए कहा कि  कार्तिकेय सिंह का मामला हो या पटना में पुलिस के साथ आरजेडी नेता की बदसलूकी. इन घटनाओं ने सरकार की पोल खोल कर रख दी है.

https://www.facebook.com/100072412174036/videos/5746244745394749/

बेगूसराय में मंगलवार देर शाम अपराधियों ने‌ 30 किमी तक 7 थानों की सीमा को क्रॉस करते हुए अंधाधुंध फायरिंग कर 11 लोगों को गोली मारी थी, जिसमें एक ‌की मौत हो गई है. 10 गंभीर रूप से घायल हैं.

घटना की जानकारी मिलते ही बेगूसराय के सांसद और बीजेपी के वरिष्ठ नेता गिरिराज सिंह आज सुबह पटना पहुंचे. बेगूसराय जाने से पहले एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बात करते हुए गिरिराज सिंह ने कहा कि ये जनता राज नहीं जंगल राज है.मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जंगल राज की परिभाषा बदल कर जनता राज कर दिया है. वो डरते हैं कि कहीं तेजस्वी यादव उनको कुर्सी से उतार ना दें. गठबंधन की सरकार बनने के बाद से कानून व्यवस्था की हालत दयनीय हो गई है. मुख्यमंत्री को सामने आना चाहिए और जनता को जवाब देना चाहिए.

https://www.facebook.com/100072412174036/videos/739409983826485/

इस बीच बिहार विधान सभा के पूर्व अध्यक्ष विजय सिन्हा बेगूसराय पहुंचे और हालात का जायजा लिया.उन्होंने घायलों से मुलाकात की और पीड़ित परिवार को सांत्वना दिया.बिहार में बढ़ रहे अपराध और कानून व्यवस्था पर चिंता जाहिर की.

फिलहाल अभी तक फायरिंग करने वालों का कुछ भी सुराग पुलिस नहीं ढ़ूंढ़ पाई है.बेगूसराय एसपी ने अपराधियों को पकड़ने के लिए कई टीमें बना दी हैं और काम में लापरवाही बरतने के आरोप में 7 पुलिस वालों को सस्पेंड कर दिया है. पुलिस हर संभव कोशिश कर रही है लेकिन फिर भी इतनी बड़ी घटना को अंजाम देने वाले पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं.

 

 

Latest news

Related news