Monday, June 17, 2024

Digital Strike On PFI: पीएफआई पर बैन के बाद सरकार की डिजिटल स्ट्राइक, अब संपत्ति भी होगी ज़ब्त !

PFI के खिलाफ UAPA के तहत कार्रवाई करते हुए भारत सरकार ने 5 सालों तक बैन लगाया है. 200 से ज्यादा कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के बाद भी कार्रवाई थमने का नाम नहीं ले रही है. इसी कड़ी में फिर एक बार केंद्र ने पीएफआई के खिलाफ सख्त एक्शन लेते हुए . PFI पर अब डिजिटल स्ट्राइक की है.इस डिजिटल स्ट्राइक में PFI के ट्विटर , फेसबुक , इंस्टाग्राम और यूट्यूब ने भी PFI और उसके सभी प्रमुख नेताओं के एकाउंट को भारत मे बंद कर दिया है.
ट्विटर पर कहाँ कहाँ हुई कार्रवाई ?
PFI के ट्विटर की बात करें तो अब @pfiofficial यूजरनेम वाला PFI का आधिकारिक ट्विटर एकाउंट, @anispfi यूजरनेम वाला PFI के महासचिव अनीस अहमद का एकाउंट, वहीं @oma_salam यूजरनेम वाला PFI के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओ एम ए सलाम का एकाउंट, @EMAbdulRahiman1 यूजरनेम वाला PFI के वाइस प्रेसिडेंट ईएमए अब्दुल रहिमान का ट्विटर एकाउंट, @SajidbinSayed यूजरनेम वाला PFI की छात्र विंग सीएफआई (CFI) के प्रेसिडेंट साजिद बिन का ट्विटर एकाउंट समेत पीएफआई (PFI) से जुड़े अन्य कई लोगो के ट्विटर एकाउंट भारत में पूरी तरह से बंद हो गये है.

हालांकि पीएफआई से जुड़े कुछ ट्विटर एकाउंट CFI का ट्विटर एकाउंट, PFI कर्नाटक का ट्विटर एकाउंट अभी भारत में ट्विटर पर मौजूद दिख रहा है लेकिन जानकारों के मुताबिक कुछ ही समय मे भारत में पूरी तरह बंद हो जाएंगे.

ट्विटर की तरह ही फेसबुक, इंस्टाग्राम और यूट्यूब समेत सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर बने पीएफआई और उसके नेताओं के एकाउंट को भी भारत में पूरी तरह से बंद कर दिया है.

अब आगे क्या होगा?

ये कार्रवाई का सिलसिला सिर्फ गिरफ्तारी और सोशल मीडिया एकाउंट्स तक सिमित नहीं रहेगा. यूएपीए (UAPA) के तहत पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया पर 5 साल के प्रतिबन्ध लगाने की अधिसूचना के बाद संगठन के खिलाफ कई कार्रवाई की जाएंगी, जिनमें इसकी संपत्तियों को जब्त करना, बैंक खातों पर रोक लगाना और इसकी तमाम गतिविधियों पर पूरी तरह से रोक लगाना शामिल है.

Latest news

Related news