Monday, February 26, 2024

बेंगलुरु में जल भराव के लिए कांग्रेस जिम्मेदार- सीएम बसवराज बोम्मई

बारिश से बेहाल कर्नाटक और खासकर आईटी हब कहें जाने वाले बेंगलुरु की हालत खस्ता है. कई इलाकों में जल भराव से लोग परेशान है. हालात बिगड़ने पर लोग सोशल मीडिया का सहारा लेकर मुख्यमंत्री के प्रति नाराजगी जाहिर कर रहे है. लोग सीएम को याद दिला रहे है कि बेंगलुरु देश का सबसे ज्यादा टेक्स देने वाला शहर है. लोगों की नाराजगी से परेशान मुख्यमंत्री जल भराव के लिए कांग्रेस को ज़िम्मेदार बता रहें है
कांग्रेस के कुप्रशासन का नतीजा है जलभराव- मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई
जल भराव पर चौतरफा घिरे मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने मीडिया के सवालों के जवाब में बेंगलु कहा कि “बेंगुलरु में जलभराव पिछली कांग्रेस सरकार के कुप्रशासन और पूरी तरह से अनियोजित प्रशासन के कारण हुआ है”
90 साल में नहीं हुई ऐसी बारिश- CM बसवराज बोम्मई
पिछले हफ्ते से जारी तेज़ बारिश पर सीएम ने कहा कि ऐसी बारिश पिछले 90 साल में नहीं हुई है. “बेंगुलरु में ऐसी तेज बारिश पिछले 90 साल तक नहीं हुई. सभी टैंक भर गए हैं और ओवरफ्लो हो रहे हैं. यहां रोज बारिश हो रही है आज भी हुई है.“
सिर्फ 2 इलाकों में है परेशानी- CM बसवराज बोम्मई
मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे बेंगलुरु शहर में नहीं सिर्फ दो इलाकों में जलभराव से परेशानी है और उसकी वजह है ज्यादा टैंक और अतिक्रमण. ”पूरे बेंगुलरु में बारिश से नहीं परेशानी है बल्कि सिर्फ दो जोन में ही परेशानी है. खासकर महादेवपुरा जोन संकट में है जिसमें पहला कारण- छोटे से क्षेत्र में 69 टैंक हैं और सभी ओवरफ्लो हो रहे हैं, दूसरा- इस्टैब्लिशमेंट निचले स्तर पर हैं तीसरा-अतिक्रमण है.”
प्रशासन चौबीसों घंटे काम कर रहा है- CM बसवराज बोम्मई
मुख्यमंत्री ने कहा कि शहर में जलभराव की समस्या से निपटने के लिए प्रशासन चौबीसों घंटे काम कर रहा है. उन्होंने कहा कि समस्याओं के समाधान के लिए कंट्रोल रूम बनाए गए हैं. सीएम ने कहा, “हमने इसे एक चुनौती के रूप में लिया है. हमारे अधिकारी, इंजीनियर, कार्यकर्ता और एसडीआरएफ टीम चौबीसों घंटे काम कर रही है. हमने बहुत सारे अतिक्रमणों को हटा दिया है और हम उन्हें हटाना जारी रखेंगे. हम टैंकों पर स्लुइस गेट लगा रहे हैं ताकि टैंकों को साफ किया जा सके.
पानी निकासी के लिए हमने 1500 करोड़ रुपये दिए- CM बसवराज बोम्मई
सीएम ने कहा, “हमने बेंगलुरु में पानी की निकासी के लिए 1,500 करोड़ रुपये दिए हैं, जबकि अन्य 300 करोड़ रुपये अतिक्रमण हटाने के लिए दिए गए हैं. हम यह सुनिश्चित करेंगे कि भविष्य में पानी के कारण ऐसी कोई समस्या ना बने.”
टैंकरों और बोरवेल के माध्यम से पानी की सप्लाई की जा रही है-CM
बेंगलुरु में पेयजल आपूर्ति बाधित होने पर बोम्मई ने कहा, “मांड्या जिले में बारिश के पानी से दो पंपिंग स्टेशन प्रभावित हुए हैं. पहले पंप हाउस से पानी कम हो गया है और आपूर्ति शुरू हो जाएगी. एक और पंप हाउस को आज दोपहर तक साफ किया जाना है. इस बीच, टैंकरों और बोरवेल के माध्यम से पानी की सप्लाई की जा रही है.”
कैसे हैं शहर के हालात
कर्नाटक में आफत की बारिश थमने का नाम नहीं ले रही है. बेंगलुरू में हालात ये है कि शहर के पॉश इलाकों में पानी भर गया. कई इलाकों से NDRF की टीम लोगों को रेस्क्यू कर रही है. NDRF प्रमुख सेंथिल कुमार ने कहा “हमने NDRF की 2 टीमें तैनात की है. SDRF भी अलग क्षेत्रों में रेस्क्यू कार्य कर रही है. हमारा लोगों से अनुरोध है कि मौसम ठीक होने तक आप सुरक्षित जगहों पर रहें.”

बारिश के बाद सबसे ज्यादा ट्रेफिक वाली मराठाहल्ली-सिल्क बोर्ड रोड की बाहरी रिंग रोड पर भी जबरदस्त जल भराव हुआ.


हालात कितने ख़राब है इसका अंदाज़ा आप इस बात से लगा सकते हैं कि शहर के कई जगहों पर लोग एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए ट्रैक्टरों का इस्तेमाल कर रहे हैं.

Latest news

Related news