Wednesday, May 29, 2024

यूपी में 1अक्टूबर से शुरु होगा संचारी रोग नियंत्रण अभियान,सीएम योगी करेंगे अभियान की शुरुआत

उत्तर प्रदेश में रिकॉर्ड कोविड वैक्सिनेशन के बाद योगी सरकार अक्टूबर  में विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान शुरु कर रही है. ये अभियान 1 अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक चलेगा. अभियान का शुभारंभ सीएम योगी आदित्यनाथ करेंगे. इस अभियान के बीच में राज्य सरकार एक दस्तक अभियान भी चलायेगी. राज्य सरकार बयान जारी कर पूरे कार्यक्रम की जानकारी दी है.इस कार्यक्रम के अंतर्गत 11 विभागों के अधिकारी दिमागी बुखार, वायरस और बैक्टिरिया से जुड़ी बीमारियों की रोकथाम के लिए घर घर दस्तक देंगे.आपको बता दें कि इस साल ये अभियान का तीसरा चरण है. इससे पहले अप्रैल और जुलाई में भी अभियान का चलाया जा चुका है.

सरकार द्वारा शुरु किये जा रहे इस संचारी रोग नियंत्रण अभियान के दौरान आशा कार्यकर्ता महिलाएं और आंगनबाड़ी में काम कर रही महिलाएं घर घर जाकर सर्वे करेंगी.ये महिलाएं टीबी,फ्लू,बुखार,कुपोषण और बच्चों में ‘इंफ्लुएंजा लाइक इलनेस’ समेत अन्य बीमारियों के ग्रसित मरीजों की पहचान करेगी और संबधित रिपोर्ट स्वास्थ विभाग को सौंपा जायेगा.

गौरतलब है कि योगी आदित्यनाथ ने सत्ता संभालने के बाद ही संचारी रोगों पर प्रभावी नियंत्रण के लिए कई विभागों के समन्वय के साथ इस अभियान की शुरुआत की थी.जिसके बाद जापानी इंसेफ्लाइटिस जैसी बीमारी से राहत पाने में काफी मदद मिली.राज्य सरकार की तरफ से मुख्य सचिव दूर्गाशंकर मिश्र ने स्वास्थ विभाग, नगर विकास विभाग औऱ पंचायती राज एवं ग्राम विकास विभाग सहित संबंधित विभागों को इसके बारे में कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिये हैं.उत्तर प्रदेश सरकार के इस अभियान से विश्व स्वास्थ संगठन और यूनिसेफ भी जुड़ेंगे.अभियान को सुचारु रुप से चलाने के लिए हर विभाग से प्रदेश स्तर पर एक नोडल अधिकारी नियुक्त किये जायेंगे. जो समय समय पर अभियान के गतिविधियों की प्रगति की जांच करेंगे .

इस अभियान का उद्देश्य वायरस , बैक्टिरिया  से जुड़ी बीमारियों को नियंत्रित करने , साफ सफाई ,कचरा निस्तारण , जल जमाव का रोकथान, पेयजल आपूर्ति के लिए जागरुकता पर विशेष जोर देना है, ताकि समान्य जन जीवन में लोग बीमारियों को लेकर जागरुक रहें.

राज्य सरकार ने इस अभियान के तहत घर घर जाने वाली टीम के साथ कुछ दवाईयां भी भेजने की व्यवस्था की है. जो टीम घर घर जाकर सर्वे करेगी, उनके पास जिंक टैबलेट,ओरआरएस पैकेट्स, पानी को साफ रखने वाली क्लोरीन को गोलिया भी होंगी. जहां जरुरत होगी लोगों के दिया जायेगा उन्हें दिया जा सके.इन दवाइयों  डायरिया जैसी बीमारियों को को रकने में तत्काल मदद मिलेगी.

सरकार के द्वारा जारी दिशा निर्देश मे कहा गया है कि अभिभान की समाप्ति के बाद अंतर्विभागीय रिपोर्ट संचारी रोग इकाई और स्वास्थ सेवा निदेशायल की मेल आईडी पर भेजना होगा.

शिक्षा विभाग बैक्टियिया जनित रोगों के नियंत्रण के लिए पोस्टर प्रतियोगिता, वाद विवाद प्रतियोगिता और क्वीज प्रतिस्पर्धा आदि का आयोजन करेगा.दिव्यांग सशक्तिकरण विभाग जापानी इंसेफ्लाइटिस और एक्यूट इंसेप्लाइटिस सिंड्रोम के कारण दिव्यांग  हुए बच्चो का सर्वे करेगा ताकि उन्हें सहायक उपकरण उपलब्ध कराया जा सके.

शहरों और गांवो में फॉगिंग और एंटी लार्वा छिड़काव कराया जायेगा, औऱ गंदगी वाली जगहों को चिन्हित कर साफ सफाई कराई जायेगी.

Latest news

Related news