Saturday, April 13, 2024

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में फीस बढ़ोतरी के विरोध में छात्रों ने निकाला मशाल जूलूस…

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्रों ने फीस बढाये जाने के विरोध में गुरुवार को फिर नये तरीके से विरोध प्रदर्शन किया. छात्रों ने विवि परिसर में बुद्धि शुद्धि यज्ञ किया और  मशाल जूलूस निकाल कर अपना विरोध जारी रखा. इलाहाबाद विश्व विद्यालय के छात्र पिछले दस दिन से विश्वविद्यालय द्वारा फीस में 400 प्रतिशत यानी चार गुणा बढोतरी का विरोध कर रहे हैं. छात्रों का कहना है कि फीस वृद्धि से छात्रों पर अनावश्यक आर्थिक दवाब बनेगा. विश्वविद्यालय में चल रहे इस विरोध प्रदर्शन में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भी शामिल हैं.फीस बढ़ोतरी के विरोध में 6 छात्र पिछले दस दिनों से अमरण अनशन पर बैठे हुए हैं.इनमें सो दो की हालत खराब होने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है.अपने आंदोलन को गति देते हुए गुरुवार को छात्र संघ ने परिसर में बुद्धि शुद्धी यज्ञ आयोजित किया. AVBP के छात्रों ने विरोध जताते हुए विश्वविद्यालय के गेट पर ताला जड़ दिया.दस दिनों से अमरण अनशन पर बैठे छात्रो को समर्थन देने के लिए गुरुवार को मेरठ से  विधायक अतुल प्रधान(सपा) भी कैंपस पहुंचे.अतुल प्रधान ने छात्रों की मांगों का समर्थन करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय छात्रों की प्रतीभा को दबाने का काम कर रहा है.

छात्रसंघ विश्वविद्यालय के इस फीस बढ़ोतरी के आदेश को वापस लेने की मांग पर अड़ा है. इसके लिए रोज नये नये तरीके से विरोध प्रदर्शन जारी है. बुधवार को एक गधे को कैंपस मे लाकर उससे फीस वृद्धि वापस लेने की गुहार लगाई. गुरुवार को बुद्धि शुद्धि यज्ञ किया.

दरअसल इलाहाबाद विश्वविद्यालय में पिछले दिनों कई कोर्सेस  की फीस में बढ़ोतरी का ऐलान किया है. कुछ कोर्सेस के फीस तो 400 प्रतिशत यानी चार गुणा तक बढ़ा दिये गये हैं. बढ़ी फीस नये एडमिशन लेने वाले छात्रों पर को देने  होंगे. जो छात्र पहले से विवि में पढ़ रहे हैं उनपर लागू नहीं होगा.विश्वविद्यालय प्रशासन का कहना है कि जरुरतों के देखते हुए 100 साल के बाद फीस में बढ़ोतरी का फैसला किया गया है.

इलाहाबाद विश्वविद्यालय हिंदुस्तान के सबसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में एक हैं. यहां उत्तर प्रदेश ही नहीं देश के कई हिस्सों से लोग खास तौर से पढ़ाई करने आते हैं. इसकी एक खास वजह ये भी है कि जहां देश में उच्चशिक्षा लगातार महंगी होती जा रही है वहां इस प्रतिष्ठित सेंट्रल यूनिवर्सिटी में आज भी सामान्य छात्र भी अच्छे से अच्छे कोर्स में दाखिला लेकर कम खर्चे में डिग्री हासिल कर सकते थे. फीस बढ़ोतरी के बाद बहुत से छात्रों के लिए खर्चे का वहन करना मुश्किल हो सकता है.इसलिए छात्र लगातार फी बढ़तरी वापस लेने की मंग पर अड़े हैं.

Latest news

Related news