Sunday, June 16, 2024

लखनऊ में बना सबसे ऊंचा दुर्गा पूजा पंडाल,गिनीज बुक में होगा शामिल

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के जानकीपुरम में बना दुर्गा पंडाल नया इतिहास रचने जा रहा है.दुनिया का सबसे ऊंचा पंडाल का खिताब जानकीपुरम में उत्सव दुर्गा पूजा सेवा समिति के द्वारा बनाए गए दुर्गा पूजा पंडाल को मिलने जा रहा है.अभी तक दुनिया के सबसे ऊंचे पंडाल का खिताब कोलकाता के पास था जिसकी ऊंचाई 125 फीट की थी लेकिन जानकीपुरम के एफ ब्लॉक में स्थित दुर्गा पूजा पंडाल की ऊंचाई 136.64 फीट है. यह पूरा पंडाल वृंदावन के चंद्रोदय मंदिर की तर्ज पर बनाया गया है.

ये पूरा पंडाल कोलकाता और आसम से आए 52 कारीगरों की मेहनत का नजीता है. इसे बनाने में लगभग डेढ़ महीने का वक्त लगा है.पंडाल की ऊंचाई लगभग 14 मंजिला इमारत के बराबर है .इस पूरे पंडाल को बनाने में लगभग 32 लाख रुपए की लागत आई है . पंडाल में सुरक्षा के खास इंतजाम किए गए ताकि हर दिन यहां आने वाले करीब 70 हजार श्रद्धालु  जब माता के दर्शन करने आयें तो उनको कोई दिक्कत ना हो. पंडाल में आग से बचने के लिए खास इंतजाम किये गये हैं.जगह जगह पर  फायर प्रोटक्शन इनक्यूपमेंट रखे गए हैं, इसके साथ ही साथ इन इनक्यूपमेंट  का इस्तेमाल करने के लिए प्रशिक्षित लोगों को भी तैनात किया गया. पूरे पंडाल के इर्द-गिर्द लगभग 55 फायर सेफ्टी इनक्यूपमेंट रखे गए. इसके अलावा पंडाल की सुरक्षा के लिए सिक्योरिटी गार्ड की भी तैनाती की गई है. गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड की टीम ने पूरे पंडाल का मूल्यांकन किया और उनकी तरफ से कहा गया कि  4 से 5 दिनों में सर्टिफिकेट दे दिया जाएगा.

जानकीपुरम में दुर्गा पूजा सेवा समिति पिछले 28 वर्षों से हर सालकिसी ना किसी खास थीम पर पंडाल बनाते हैं.इस बार के थीम पर पूजा समिति ने कहा कि माता को हमेशा मंदिर में ही रहना चाहिए, इसीलिए इस बार का थीम चंद्रोदय मंदिर रखा गया जो कि वृंदावन में इस्कॉन के द्वारा बनवाया जा रहा है. उसी के कांसेप्ट पर इसको बनाया गया है. इस भव्य पंडाल को देखने हाजारों की संख्या में भक्त उमड़ रहे हैं. लखनऊ के लोग खुश हैं कि अब उनके शहर का नाम इस पंडाल के साथ जुड़ कर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हो रहा है.

Latest news

Related news