Monday, July 22, 2024

NEET Paper Leak Hearing: NEET-UG 2024 की पुनः परीक्षा पर फैसला टला, अब 18 जुलाई को SC में होगी सुनवाई

NEET Paper Leak Hearing:नीट यूजी पेपर लीक मामले की सुनवाई आज टल गई. सुप्रीम कोर्ट में राष्ट्रीय पात्रता प्रवेश परीक्षा-स्नातक (NEET- UG) 2024 में कथित पेपर लीक और अनियमितताओं से संबंधित याचिकाओं की सुनवाई 18 जुलाई को होगी. इस बीच गुरुवार को NEET-UG परीक्षा को लेकर छात्रों के एक समूह ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान से उनके आवास पर मुलाकात की.

सीजीआई ने टाली NEET Paper Leak Hearing

भारत के मुख्य न्यायाधीश डी वाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली तीन-न्यायाधीशों की पीठ ने ये कहते हुए कि, कुछ पक्षों को केंद्र और एनटीए के दायर हलफनामे नहीं मिले है सुनवाई टाल दी. इसके साथ ही चीफ जस्टिस ने कहा कि, मामले में आगे बढ़ने से पहले सभी पक्षों को हलफनामों में उठाए गए बिंदुओं पर विचार करने के लिए हलफनामों को पढ़ना होगा और जवाब देने से पहले अपना दिमाग लगाना होगा.
क्योंकि 15 और 16 जुलाई को इस विवाद में केंद्र का प्रतिनिधित्व कर रहे सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता अनुपलब्ध थे तो कोर्ट ने इस मामले में अगली सुनवाई की तारीख 18 जुलाई यानी गुरुवार को निर्धारित की.

सीबीआई रिपोर्ट पर भी विचार करेगी अदालत

इसके साथ ही सीजेआई डी वाई चंद्रचूड़ ने टिप्पणी करते हुए कहा कि, केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई), जिसे 23 जून को मामले की जांच सौंपी गई थी, ने भी एक स्थिति रिपोर्ट प्रस्तुत की है, जिस पर कोर्ट अगली तारीख पर विचार करेगी.

बुधवार को केंद्र ने दायर किया हलफनामा

इस बीच बुधवार रात केंद्र सरकार और एनटीए ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर नीट-यूजी 2024 की दोबारा परीक्षा की मांग का विरोध किया. केंद्र ने आईआईटी-मद्रास की उस व्यापक रिपोर्ट का हवाला दिया जिसमें कहा गया है कि सिर्फ चुनिंदा केंद्रों पर व्यापक कदाचार या उम्मीदवारों को अवैध लाभ पहुंचाने के आरोपों का खंडन किया गया है.

केंद्र ने नीट-यूजी 2024 परीक्षा प्रक्रिया की अखंडता पर जोर देने के लिए आईआईटी-मद्रास के डेटा विश्लेषण से प्रमुख निष्कर्षों पर प्रकाश डाला. हलफनामे में कहा गया है कि उच्च शिक्षा विभाग ने आईआईटी-मद्रास से नीट-यूजी 2024 के परिणामों का विस्तृत डेटा विश्लेषण करने का अनुरोध किया है ताकि किसी भी संदिग्ध गड़बड़ी के मामलों की पहचान की जा सके और शीर्ष प्रदर्शन करने वाले उम्मीदवारों के प्रसार का मूल्यांकन किया जा सके.

ये भी पढ़ें-Haryana election: INLD-BSP गठबंधन ने अभय चौटाला को बनाया सीएम फेस, मायावती ने बढ़ाई बीजेपी की टेंशन

Latest news

Related news