Monday, July 15, 2024

IPS Shobha Ahotkar एक बार फिर विवादों के घेरे में, महिला DIG अधिकारी ने लगाया प्रताड़ना का आरोप

पटना – बिहार के होमगार्ड एवं अग्निशमन सेवा विभाग की डीजी शोभा अहोटकर (IPS Shobha Ahotkar) पर एक बार फिर से एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने प्रताडित करने का आरोप लगाया है. गृहरक्षा वाहिनी की डीआईजी अनसूया रणसिंह साहू ने डीजी अहोटकर (IPS Shobha Ahotkar) के खिलाफ 13 पन्ने की शिकायत लिखी है. पत्र में लिखा गया है कि डीजा शोभा अहोटकर (IPS Shobha Ahotkar) कई टेंडर्स में धांधली करवा रही हैं. जब उन्होंने उसे उजागर करने की कोशिश की तो अहोटकर (IPS Shobha Ahotkar) की तऱफ से उन्हें और उनके परिवार को जान से मारने की धमकी भी मिल रही है.

Shobha Ahotkar के खिलाफ पत्र से गृहविभाग में हड़कंप

डीआईजी अनुसूया रणसिंह ने जब से गृहविभाग को पत्र भेजा है विभाग में  खलबली मची हुई है. अनुसूया रणसिंह ने डीजी अहोटकर पर आरोप लगाया है कि उन्हें साजिश में फंसाने की कोशिश की जा रही है.  उन्हें मानसिक रुप से प्रताडित भी किया जा रहा है. अनुसूया रणसिंह का आरोप है कि होमगार्ड डिपार्टमेंट में पोस्टिंग के लिए वसूली की जा रही है. मैंने जब इस मामले को उजागर करने की कोशिश की तो मुझे फंसाया जाने लगा और अब मुझे और मेरे  परिवार को शोभा अहोटकर से जान का खतरा है. अनुसूया रणसिंह ने वरिष्ठ अधिकारियों से कहा है कि उनकी प्रार्थना पर ध्यान दिया जाये.

Shobha Ahotkar पर IPS विकास वैभव ने भी लगाया था आरोप

शोभा अहोतकर पर अपने मातहतों को प्रताडित करने का ये पहला मामला नहीं है. इससे पहले IPS विकास वैभव ने भी डीजी शोभा अहोटकर पर मानसिक रुप से प्रताडित करने का आरोप लगाया था.बिहार के गृहरक्षा विभाग में तैनात  आईजी विकास वैभव ने शोभा अहोटकर पर गाली गलौच करने और छुट्टी मांगने पर प्रताडित करने का आरोप लगाया था.

विकास वैभव के इस मामले ने तब तूल पकड़ लिया जब उन्होंने इसकी शिकायत किसी अफसर से न करके अपनी बात सोशल मीडिया पर साझा की थी. हलांकि थोड़ी देर बाद ही वो पोस्ट सोशल मीडिया से उन्होंने हटा लिया था लेकिन मामले ने तूल पकड़ लिया और काफी दिनों तक हंगामा होता रहा. दो वरिष्ठ अधिकारियों की डिपार्टमेंटल लड़ाई आम लोगों के बीच चर्चा का कारण बन गई.

हलांकि इस विवाद के बाद गृहरक्षा विभाग में तैनात आईजी विकास वैभव को वहां से हटाकर हेडक्वाटर भेज दिया गया. 27 फरवरी को उनका तबादला कर दिया गया था.फिर वहां से चार महीने बाद उन्हें पुलिस विभाग से हटाकर बिहार राज्य योजना पर्षद में तैनात कर दिया गया था.

Latest news

Related news